ये करेंगें तो बुखार कभी होगा ही नहीं

बुखार:

 

ये करेंगें तो बुखार कभी होगा ही नहीं

  1. राजीव दीक्षित जी कहते हैं कि आपको अगर बुखार है तो आप दस या पन्द्रह तुलसी के पत्ते लेकर तीन-चार काली मिर्च के साथ एक गिलास पानी में उबाल लें और ठंडा करके सेवन करें (फ्रिज में न रखें). अगर आप निरंतर अन्तराल पर इस  औषधि का सेवन करें तो आपको बुखार ही नहीं होगा.
  2. राजीव दीक्षित जी अब एक और औषधि का वर्णन करते हैं कि आप पारिजात/परिजात/पारिजातक/हारसिगा नामक पौधे (जिसके सफ़ेद फूल आते हैं, साल में दो या तीन महीने ही. फूल कि डंडी लाल रंग कि होती है. केवल रात में फूल खिलते हैं तथा सुबह गिरे हुए मिलते हैं. फूलों कि खुशबू बहुत तेज होती है, दुर तक आती है.) कि चार-पांच पतियाँ तोड़कर उनकी चटनी बना लें, चटनी मतलब उसे पत्थर पर रगड़ लें मगर नमक आदि न डालें. इस चटनी को एक गिलास पानी में डालकर इतना उबालें कि पानी आधा हो जाए बाद में ठंडा करके इसका सेवन करें. इसके लिए जो बात ध्यान में रखनी है वो है इस औषधि को रात में बना लें फिर ठंडा होने के लिए रख दें (मगर फ्रिज में न रखें) और सुबह उठकर कुला करके इसका सेवन करें.

पारिजात के पौधे को देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

कैंसर का इलाज घर पर करें 100% by Rajiv Dixit

महत्वपूर्ण चीजें जो ध्यान में रखें

इस औषधि को हर रोज तैयार करें अधिक मात्रा में बनाकर न रखें. आप इसका पौधा घर पर भी लगा सकते हैं, यह बहुत कम समय तथा जगह में तैयार हो जाता है.  इसका सेवन हो सके तो बिना छाने करें, परिणाम बहुत जल्दी मिलता है. यह औषधि बहुत स्ट्रोंग है तो आप इस औषधि का अकेले ही लें यानि साथ में और दवाई न लें.

यह औषधि कई तरह के बुखार में कारगर है जैसे कि डेंगू, ब्रेन मलेरिया, चिकनगुनिया या ऐसा कोई बुखार जिसमें शरीर के अन्दर दर्द होता हो तो भी इसके परिणाम बहुत अच्छे हैं. एलोपैथी से जो बुखार छह महीने में ठीक होगा उस बुखार को यह औषधि छह दिन में ठीक कर देगी.

  1. एक और औषधि बताते हैं राजीव भाई कि आप नीम कि गिलोए (एक प्रकार कि बेल होती है जो ज्यादातर नीम पर पाई जाती है, मगर जरुरी नहीं कहीं और न मिले, मिल सकती है) को थोडा-सा तोड़कर उसे पानी में पत्थर पर रगड़ लें और फिर पानी में गर्म कर लें. ठंडा होने के बाद सेवा करें (फ्रिज में न रखें). यह औषधि WBC (श्वेत रक्त कोशिकाओं) को बढ़ा देती है, जो डेंगू बुखार में कम हो जाती हैं.

आप अगर इन चीजों का ध्यान रखेगें तो आप को कभी भी डॉक्टर के पास जाने कि जरुरत नहीं पड़ेगी ना ही महँगी दवाइयों कि जो डॉक्टर्स देते हैं और ठीक होने में भी समय ज्यादा लगता है. तो इसके लिए आप इन तरीकों को अपनाएं और अपना स्वास्थ्य ठीक रखें.ये करेंगें तो बुखार कभी होगा ही नहीं

ध्यान रखें कि आपको बीमारी ही ना हो तो आप को इन तरीकों कि ही जरुरत न पड़े.

Please follow and like us:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *